दूसरों का उपहास बनाकर
खुद को ऊँचा दिखाने की
कोशिश में लगे लोग!
हर एक उपहास के बाद
एक पायदान नीचे
खिसक जाते हैं|