यहाँ रोजमर्रा का खर्च भी नहीं है,

चूल्हा जैसे तैसे जल रहा है!

वहाँ सरकारी कागजों में देखो,

विकास उछल रहा है|

#ShubhankarThinks

All rights reserved