Tag: yourquote

प्रेम और हिमपात

आज वातावरण में मिठास सी है, शीत पवन में भी तेरी सुगंध घुली है! मेरे प्रेम की लहरें और भी तीव्र हो उठी हैं, हिमपात की कठिन परिस्थिति में, प्रत्येक शीत अनुभव मुझे, तुम्हारे श्वांस से निकले उष्ण वायु के सुखद अनुभव की याद दिलाता है| तुम पता नहीं कहाँ हो? लगातार ये शीत वायु मुझे स्पर्श करके, तुम्हारे प्रेम की महत्ता का ज्ञान करा रही है| Pic Credit- Google नमस्कार कैसे हैं आप सभी लोग, यह कविता मूल रूप…

वो लड़की 

वो लाड़ली है अपने माँ बाप की , मगर भाई की स्वतंत्रता के आगे , माँ- बाप की ममता उसके लिए फीकी पड़ जाती है! वो जिद्दी है बचपन से ही मगर पराये घर में वो दूसरों को मनाती है, उसे पसंद है, मनमानी करना मगर अब वो दूसरों के मन की बातों को निभाती है| उसकी आदत है, अपने निर्णय स्वयं लेने की मगर अब वो किसी दूसरों के आदेशों को सिर-माथे बिठाती है| कुछ गुण है उसमें औरों…