जमीन से देखा परिंदे ने आसमान की ऊँचाई और दायरे को एक साथ,

फिर उसे पंखों की नाप और अपनी औकात दोनों साफ नज़र आने लगे|



अपनी हदों में रहने का मज़ा ही कुछ और है,

आज़ाद उड़ो अपने हद के आसमान में और 

सरहद पार के लोगों को खबर भी ना लगे!

#मनमौजी_परिंदा

#shubhankarthinks