तबियत से कोशिश की जाये तो आसमान में भी छेद हो सकता है,
हाथ की लकीरें तो फिर भी मुलायम होती हैं,
जरा सी खरोंच से बदल जायेंगी|