देख मेरे पागलपन को परिस्थिति तक घबराई,

फिर अंतर्मन के एक भवन से आवाज यही बस आयी,

अब रुकना नहीं है मेरे भाई!

अब रुकना नहीं है मेरे भाई!