Category: Categories

Composition

Please have patience for sometime, To hear my frictioning pen. Have look for sometime, To watch the ink painting again. Have patience for sometime, To understand the hidden intensions. Do me a favor, By admiring my dedication and penchants. Open your mind for sometime, To accept the reality of the composition. Please do prediction for sometime, To calculate my efforts to achieve my ambition. You’ll have to lose yourself in lyrics, To catch the flow of a composition. #ShubhankarThinks

माँ को समर्पित

कुण्ठा, बाध्यता और लोक लाज, मगर हौसले हैं उसके जैसे पर्वत-पठार! गृहस्थ वो बड़ी यत्न से चलाती है, और ममता वात्सल्यता के समय हिम गिरी सी पिघल जाती है| ” माँ “     

Thought of the day 

कुछ अलग शौक पाल रखे हैं मैंने, नींदें काटकर सपने बुनता हूँ| पढ़ने गये कविता हम शेर-ओ-शायरी के दौर में, मेरी पंक्तियाँ कुचल गयीं, वाहवाही के शोर में| #ShubhankarThinks

व्यंग :- आखिर दोषी कौन है?

आज विजयादशमी के मौके पर , एक व्यंग मेरे दिमाग में अनायास चल रहा है! पुतला शायद रावण का फूंका जायेगा, मगर मेरे अंतःकरण में एक रावण जल रहा है| तर्क-कुतर्क व्यापक हुआ है, हठी, मूढ़ी भी बुद्धिजीवी बना है! आज दशहरा के मौके पर कोई सीता पक्ष तो, कोई रावण पक्ष की पैरवी में लगा है| एक व्यंग मेरा भी इस मुक़दमे में जोड़ लो, विचारों को एक और नया मोड़ दो! देखो राम ने सीता का त्याग किया…

Introduction

Hello, Welcome to my new blog, I know this is not my first post still, as I noticed, Many fellow bloggers of mine didn’t recognize my new blog so  I would like to feature this post for introduction purpose – My name is Shubhankar Sharma(as my domain says), I am a software engineering student by profession, a web and an Android app developer by choice, a good reader, and a writer as well. I have been blogging on WordPress for…

ख़बर ना रही अब

नमस्कार दोस्तों , कभी कभी मन में कल्पनाएं चल रही होती हैं , जिनका कोई आधार नहीं होता फिर भी आनंद आता है उन्हें लिखने में तो पढ़िए मेरी ये छोटी सी कविता – ख़बर ना तुझे रही अब , ना मुझे कोई ख़बर है! तुझे पूछना भी बंद कर दिया है अब हाल चाल मेरा, तो अपनी तरफ से बताना , मैं अब वाजिब नहीं समझता ! शायद दूरियां पसंद हैं तुझको, कोशिश मेरी भी अब कुछ ऐसी ही…

Brainwashing : A brain attack

Hello folks, I hope you all are doing well; Today I am going to share some view on a sensible topic so I hope you will read this article till the end. So, today’s topic is brainwashing, so firstly let’s know the definition of this word “pressurize (someone) into adopting radically different beliefs by using systematic and often forcible means.” (source Google)” or in simple words we can say “Brainwashing is a process which is used to Re-educate someone “…