हाँ अभिव्यक्ति की आज़ादी संविधान तुम्हें दिलाता है,
किसी आवाज़ तुम्हारी अभिव्यक्ति में कुचल कर ना रह जाये, यह आपके विवेक को दर्शाता है|